शुक्रवार, 27 नवंबर 2009

        कोई देख रहा है 


झिलमिल चाँद सितारों में से कोई हमें देख रहा है
अब भी संग हूँ मैं तुम सबके  जैसे कोई कह रहा है

जीवनपथ पर  तुम कभी मत घबराना
थक कर घबराकर तुम मत रुक जाना
चलते जाना चलते जाना
मैं राह दिखलाता रहूँगा
जैसे कोई बोल रहा है
झिलमिल चाँद सितारों में से कोई हमें देख रहा है

गया वक़्त ना अब कभी लौटेगा
जो चल रहा है वो भी ना ठहरेगा
इस उलझन में तुम मत उलझ जाना
मेरे उसूलों को अपनाये रहना
कर्म अपने करते रहना
सभी को तुम अपनाये रखना
सभी को साथ लिए चलते रहना
जीत तुम्हारी ही होगी
मन में ये विश्वास कायम रखना
चुपके से कोई समझा रहा है
हौसला कोई जैसे दे रहा है
कोई हमें देख रहा है

झिलमिल चाँद सितारों में से कोई हमें देख रहा है
अब भी संग हूँ में तुम सबके जैसे कोई कह रहा है

1 टिप्पणी:

manju ने कहा…

जीवनपथ पर तुम कभी मत घबराना

थक कर घबराकर तुम मत रुक जाना

चलते जाना चलते जाना

मैं राह दिखलाता रहूँगा

जैसे कोई बोल रहा है

झिलमिल चाँद सितारों में से कोई हमें देख रहा है
yeh lines bahut aachi h padh kar bhi self confidence badh jata h