सोमवार, 29 मार्च 2010

ना जाने तुम कौन हो 

ना जाने तुम कौन हो
जो इस तरह मेरे दिल में समां गए हो
जो इस तरह मेरी दुनिया बदल गए हो

ना जाने तुम कौन हो
जो मेरी  साँसों को  महका  गए  हो
जो मेरी आँखों में आकर बस गए हो

ना जाने तुम कौन हो
जो मेरे होठों को  एक  नई मुस्कान दे गए हो
जो मेरे गालों की लालिमा को और बढा गए हो 

ना जाने तुम कौन हो
जो फागुन के रंगों को और भी रंगीन कर गए हो
जो पतझड़ में भी हर तरफ बहारें लेकर आये हो

ना जाने तुम कौन हो
जो मुझे अब  हर तरफ  नज़र आने लगे हो
जो मुझे ख्वाबों में भी आकर सताने लगे हो

ना जाने तुम कौन हो
जो अब  मुझ को  मुझ ही से  छीन रहे हो
जो ना जाने किस बंधन में मुझे बाँध रहे हो 

ना जाने तुम कौन हो
ना जाने तुम कौन हो

3 टिप्‍पणियां:

Surya Vikramjeet ने कहा…

mujh ko mujh hi se cheen rahe ho naa jaane kis bandhan me baandh rahe ho.

Ye panktiyaaan zabardast prabhavshali hai. Premika ne kitni saral bhasa me apni masoomiyat ko darshaya hai. Nareshji aisa lagta hai ki aap purush aur stree dono ke swabhaav ko bahut gahraai se samajh lete ho. Dhnaywaad bhaiisaahab.

awadhesh pratap ने कहा…

आपसे एक बात कहना चाहता हूँ नरेशजी. मेरे बड़े भैय्या ने प्रेम विवाह किया है . आपकी कविता की तरह उन्होंने हमारी भाभी को इसी तरह से चुरा लिया था. भाभी को कभी पता ही नहीं चला कि कब वो भैय्या को पसंद करने लगी है .आपकी कविता और भैय्या - भाभी की प्रेम सभी आपस में एक हो गए हैं . आज तो मज़ा आ गया नरेशजी .

Gurminder Kaur ने कहा…

आप जो फोटो लगाते हो ना हर गीत के साथ वो बहुत ही अच्छा होता है. वो सिर्फ फोटो नहीं होता . वो गीत कि लाइन के साथ जुड़ा होता है. ये गीत भी बहुत बहुत अच्छा है .