शनिवार, 16 अक्तूबर 2010

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
क्यूँ कोई अपना भी बेगाना सा लगता है
क्यूँ हर कोई दिल तोड़ने की बात करता है 
क्यूँ हर कोई खुद को अलग समझता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है

कभी कभी मेरे दिल  में ख़याल आता है
क्यूँ अब रिश्तों गहराईयाँ कम है
क्यूँ अब इंसानों में मौहब्बतें कम है
क्यूँ अब हरसू रंजिशों का मौसम है

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
क्यूँ अब हर दिन एक बोझ है
क्यूँ हर रात एक काला साया है
क्यूँ खुद से ही जुदा अब अपना साया है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
अब जब कोई आरज़ू बाकी नहीं
अब जब कोई रौशनी नज़र आती नहीं
तो क्यूँ ये निगाहें कुछ तलाशती हैं
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
हर तरफ जब रास्ते ही रास्ते हैं
जब कोई मंजिल नज़र नहीं आती
तो बेवजह क्यूँ ये राहें चल रही है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
हर नाता अब झूठा क्यूँ लगता है
हर धागा अब कच्चा क्यूँ लगता है
हर सांस अब बोझ क्यूँ लगती है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
नाशाद ये दिल अब डूबता जाता है
देखते हैं कोई मसीहा कब नजर आता है
हर मंज़र खौफज़दा नज़र आता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है

 

12 टिप्‍पणियां:

sikandar ने कहा…

नाशाद साहब इस तरह के खयालात दिल को अक्सर हिला देते हैं. बहुत सोचने के लिए मज़बूर कर देते हैं. ज़माना बहुत बदल गया है. आपने दिल के दर्द को अल्फाजों में बखूबी उतरा है.
आज वो देख रहे हैं जो सुना करते थे.

Aaftaab Barelawee ने कहा…

वाह नाशाद भाई जान वाह. इतना दर्द कहाँ से लाते हो. मैंने पहले भी कई दफा आपको पढ़ा है लेकिन आज लिखें को मज़बूर हो गया हूँ की इतना दर्द किस तरह दिल में भर जाता है आपके!!!
मेरी दुआ है खुदा से की आपको सलामत रखे. आपकी कलम यूहीं चलती रहे,

Rani Khanna ने कहा…

इसे पढने के बाद कुछ लिखने को दिल नहीं हो रहा. पता नहीं फिर भी कुछ सोचने को दिल चाहता है.

Ummed Singh ने कहा…

बस दो शब्द ही लिख पाऊंगा -- बहुत खूब.

Swastika Vyas ने कहा…

सही कहा है आपने नरेश भइय्या --- अक्सर ऐसा लगता है की आजकल रिश्तों के धागे बहुत ही कच्चे हो गए हैं. बहुत सुंदर रचना.

Prem Kishan ने कहा…

साँसें बोझ क्यूँ लगती है ------ नरेशजी, आपने क्या लिखा है,,, हर तरफ यही आलम है आजकल.

संजय भास्कर ने कहा…

........नरेशजी, आपने क्या लिखा
बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है

संजय भास्कर ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति....
आपको
दशहरा पर शुभकामनाएँ ..

Udan Tashtari ने कहा…

वाह! बहुत बढ़िया.

manjul ने कहा…

aaj kal sabhi rishte kachhe dhage ki tarah hi h jine sahej pana muskil hota ja raha h....
hamesha ki tarah picture bahut aachi h.....

नरेश चन्द्र बोहरा ने कहा…

संजय जी दिल से आभार. आपकी लगातार टिप्पणीयों ने मुझे बहुत ख़ुशी प्रदान की है.

नरेश चन्द्र बोहरा ने कहा…

हाँ सिकंदर साहब, ज़माना सचमुच बहुत ही बदल गया है. आज हमें हरसू वो ही दिखाई देता है जो कभी हमने अपने बुजुर्गों से सुना था. ना जाने ऐसा क्यूँ हुआ है?