गुरुवार, 9 दिसंबर 2010

 मेरी तरह अकेला

मेरी तरह वहाँ कोई अकेला ना था
धूप में मेरा कहीं साया तक नहीं था

सुनसान थी राहें उसके घर की मगर
उसकी यादों का कारवां  मेरे संग था

हर तरफ थी खामोशीयाँ और थी तन्हाईयाँ
याद आती उसकी बातों से सफ़र आसां था

वक्त की धूल ने मिटा दिए थे सभी रास्ते
उसके बदन की खुशबू उसके दर का रास्ता था 

बुझी हुई थी शम्मां महफ़िल में भी कोई ना था
फ़कत एक था नाशाद और एक खाली सफहा था

9 टिप्‍पणियां:

निर्मला कपिला ने कहा…

वक्त की धूल ने मिटा---- वाह बहुत खूब शेर कहा। बधाई इस रचना के लिये।

संजय भास्कर ने कहा…

हर तरफ थी खामोशीयाँ और थी तन्हाईयाँ
याद आती उसकी बातों से सफ़र आसां था
बहुत ही सुंदर .... एक एक पंक्तियों ने मन को छू लिया ...

संजय भास्कर ने कहा…

कुछ लाइने दिल के बडे करीब से गुज़र गई....

नरेश चन्द्र बोहरा ने कहा…

निर्मला जी , संजय जी.. आपकी टिप्पणीयों के लिए बहुत बहुत आभार. बहुत ख़ुशी हुई की आपको मेरी नै ग़ज़ल आपको पसंद आई.

Neelam ने कहा…

हम तो आपसे नाराज हो गए हैं नरेश जी.. इतना कम लिख रहे हो आप. अब एक वादा कीजिये कि आप पहले की तरह ही लिखोगे.
कितनी सुन्दर ग़ज़ल है..

वक्त की धूल ने मिटा दिए थे सभी रास्ते
उसके बदन की खुशबू उसके दर का रास्ता था

Naseem Kausar ने कहा…

बड़ी देर से आये हैं आप
कितनी हसीं ग़ज़ल लाये हैं आप
नाशाद साहब.. कहा हो आजकल!!!!!
ये बेरुखी बरदाश्त नहीं है भाईजान.
बस अब लगातार लिखिएगा. सभी यही कह रहे हैं.

sikandar ने कहा…

बुझी हुई थी शम्मां महफ़िल में भी कोई ना था
फ़कत एक था नाशाद और एक खाली सफहा था
==वाह नाशाद साहब. बड़ा ही उम्दा शेर. इस तरह गायब ना रहें हुज़ूर. यही ख्वाहिश है हमारी.

Rani Khanna ने कहा…

बेहद ही खुबसूरत ग़ज़ल. एक एक शेर बार बार पढने के काबिल है. बड़े दिनों बाद आप लौटे हो, लेकिन इस ग़ज़ल ने तमाम शिकायतें दूर कर दी है.

नरेश चन्द्र बोहरा ने कहा…

मैं जानता हूँ आप सभी नाराज़ हैं. एक लम्बे अरसे से मैं उस तरह से नहीं लिख पा रहा था की आपको पढ़ाऊं. मैं लिख रहा था लेकिन ऐसा लग रहा था की इसे ब्लॉग पर पोस्ट करूँ या ना करूँ. इसी उलझन में काफी वक्त गुज़र गया. लेकिन अब मैं लगातार आपके लिए महफ़िल-ए-नाशाद में लिखता रहूंगा. मुआफी चाहता हूँ आप को नाराज़गी पहुंची. बहुत बहुत शुक्रिया आप सभी का.