सोमवार, 19 दिसंबर 2011


             बर्फ सी मौहब्बत 

शायद किसी बर्फ की सी थी तुम्हारी मौहब्बत
जो कुछ ही दिनों में पिघलकर कहीं दूर बह गई 

कुछ यादें ही थी तुम्हारी मेरी किस्मत में शायद
वो भी वक्त की आंधी में रेत सी कहीं दूर उड़ गई

तन्हाईयों में ही साथ था तुम्हारा; मेरे ख्यालों में 
सन्नाटों के आते ही तन्हाई भी कहीं गुम हो गई 

डायरी के पन्नों में थी सिमटी तेरी कुछ मुलाकातें
उन पन्नों के पलटते ही वो भी कहीं पीछे छूट गई 

नाशाद इक खुशबू की तरह थी तुम्हारी याद शायद
हवा के चलते ही उड़कर वो भी कहीं और चली गई 



1 टिप्पणी:

सुमन'मीत' ने कहा…

बोहरा जी ..पन्ने पलटने से यादें और ज्यादा दिल के करीब आ जाती हैं ..बहुत सुन्दर ....