रविवार, 11 अप्रैल 2010

वो मेरा हो जाएगा

देखना एक दिन  वो  भी मेरा हो जाएगा
मेरे घर का पता उसका पता हो जाएगा

आज चुरा रहा है नज़र पर देखना एक दिन
वो मुझे देखकर  शरमायेगा  मुस्कुराएगा

आज कर रहा है वो मुझसे नफ़रत पर देखना
मेरी याद में तड़पता फिर वो भी नजर आयेगा

इस कदर  छा जाएगा  मेरा  भी जादू उस पर
जागती आँखों से मेरे सपने देखने लग जाएगा

चल रहा है आज वो अकेला अपने ही रास्ते पर
एक दिन शामिल वो मेरे कारवां में हो जाएगा

उसको बसा लूँगा "नाशाद" दिल में इस कदर
देखना वो हो जाएगा मैं और मैं वो हो जाऊंगा


8 टिप्‍पणियां:

Ashutosh ने कहा…

bahut sundar rachna hai.
हिन्दीकुंज

Shekhar Kumawat ने कहा…

उसको बसा लूँगा "नाशाद" दिल में इस कदर
देखना वो हो जाएगा मैं और मैं वो हो जाऊंगा



बहुत अच्छी प्रस्तुति
bahut khub

http://kavyawani.blogspot.com/

shekhar kumawat

नवीन जोशी ने कहा…

'वो हो जाएगा मैं और मैं वो हो जाऊंगा' बहुत बढ़िया, बहुत रोमांटिक भाव भी....

Unknown ने कहा…

उसको बसा लूँगा "नाशाद" दिल में इस कदर
देखना वो हो जाएगा मैं और मैं वो हो जाऊंगा

क्या बात लिखी है !! गहरा असर कर गया दिल पर. ग़ज़ल डर ग़ज़ल गज़ब का निखार है नाशाद साहब. दिल की धड़कनें अजीब तरह से बढ़ गई इस शेर से तो.

इस कदर छा जाएगा मेरा भी जादू उस पर
जागती आँखों से मेरे सपने देखने लग जाएगा

ये भी बहुत असरदार है. क्या गज़ब के माशूक हो आप. जागती आँखों से महबूबा को सपने दिखने का माद्दा रखते हो.

Unknown ने कहा…

बड़ी अच्छी ग़ज़ल लगी. बार बार पढी फिर भी दिल नहीं भरा.

V Singh ने कहा…

ऊंचे दर्जे की ग़ज़ल है. माहौल बनकर पढना पढ़ा. भाईसाहब समझ जाइए कि कितना गहरा असर हुआ है.

Unknown ने कहा…

उसको बसा लूँगा "नाशाद" दिल में इस कदर
देखना वो हो जाएगा मैं और मैं वो हो जाऊंगा

आपकी यह ग़ज़ल तो बहुत ही अच्छी लगी मैंनूँ . कमाल का शेर है ये तो. वो हो जाएगा मैं और मैं वो हो जाऊंगा. इसे कहते हैं हीर रांझे जैसी मौहब्बत. बहुत जज्बात है आपकी भाषा में .

Unknown ने कहा…

आपने इस ग़ज़ल में तो कमाल कर दिया नरेश जी. इतनी जबरदस्त ग़ज़ल लिखी है कि मैं क्या कहूं ! क़यामत की हद तक मौहब्बत करनेवाले ही ऎसी भाषा लिख सकते हैं.
उसको बसा लूँगा "नाशाद" दिल में इस कदर
देखना वो हो जाएगा मैं और मैं वो हो जाऊंगा

इसे तो बार बार पढने को जी करता है. दीवानगी की हद तक बधाई.